छहढाला दूसरी ढाल छंद 4

label_importantछहढाला - दूसरी ढाल

छहढाला

दूसरी ढाल

मिथ्यादृष्टि की मान्यताएँ

मैं सुखी-दु:खी मैं रंक राव, मेरे धन गृह गोधन प्रभाव।
मेरे सुत-तिय मैं सबल दीन, बेरूप सुभग मूरख प्रवीन।।4।।

अर्थ – मिथ्यादृष्टि जीव मिथ्यादर्शन के प्रभाव से ऐसा मानता है कि मैं सुखी हूं, मैं दूखी हूँ, मैं गरीब हूँ, मैं राजा हूँ, मेरे धन है, मेरे घर है, मेरे गाय-भैसें हैं, मेरा बड़प्पन है, मेरे पुत्र है, मेरी स्त्री है, मैं बलवान हूँ, मैं कमजोर हूँ, मैं कुरूप हूँ, मैं सुन्दर हूँ, मैं मूरख हूँ, मैं पण्डित हूँ ।

Related Posts

Menu