अंतर्मुखी वास्तु टिप्स -2

folder_openवास्तु-ज्योतिष

वास्तु शास्त्र के अनुसार नहीं करना चाहिए दूसरे व्यक्ति की इन 6 चीजों का इस्तेमाल

वास्तु शास्त्र में एनर्जी का बहुत बड़ा महत्व है। हर मनुष्य की अपनी एनर्जी होती है, जो हमारे आस-पास रहने वाली और हमारे द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुओं को भी प्रभावित करती है। ऐसे में दूसरों की कुछ वस्तुओं का उपयोग करना हमारे लिए दुर्भाग्य और आर्थिक परेशानी का कारण बन सकता है। इसलिए ध्यान रखें कि भूलकर भी दूसरों की इन 6 वास्तुओं का उपयोग न करें। ये सभी वस्तुएं ऐसी हैं, जिनका हर कोई निरंतर उपयोग करता है। उसकी सारी पॉजीटिव और नेगेटिव एनर्जी उन वस्तुओं पर रहती है। जब हम किसी से उसकी कोई चीज उपयोग के लिए मांगते हैं तो उसकी नेगेटिव एनर्जी भी हमारे पास उस वस्तु के साथ चली आती है। इसलिए ध्यान रखें भूलकर भी किसी से उसकी ये 6 चीजें कभी उधार ना मांगें और अगर आपके पास है किसी दूसरे की इन 6 में से एक भी चीज तो तुरंत लौटा दे…

1. पेन

कई बार हम किसी काम के लिए दूसरों का पेन उधार ले लेते है, लेकिन काम खत्म होने के बाद उसे लौटाना भूल जाते है। ये बात हमारे लिए आर्थिक परेशानी और अपमान का कारण बन सकती है। इसलिए भूलकर भी किसी दूसरे का पेन अपने पास नहीं रखे।

2. बिस्तर

किसी अन्य व्यक्ति के बिस्तर या पलंग पर सोना भी वास्तु दोष माना जाता है। ऐसा करने से उस बिस्तर पर हमेशा सोने वाले लोगों के बीच लड़ाई-झगड़े होते हैं और अन्य व्यक्ति को धन संबंधी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

3. घड़ी

हाथों में पहनी जाने वाली घड़ी भी मनुष्य पर अच्छी-बुरी एनर्जी डालती है। दूसरों की घड़ी पहनने पर मनुष्य के कामों में विफलता और आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ सकता है, इससे बचें।

4. वस्त्र

दूसरों के कपड़े मांगना या प्रयोग करना भी आपके लिए कई तरह की परेशानियों और दुखों का कारण बन सकता है। इसलिए दूसरों के कपड़े मांगने या पहनने से बचें।

5. धन

किसी अन्य व्यक्ति के धन पर नजर डालना या उधार लेकर वापस न करना भी मनुष्य के लिए आर्थिक परेशानियों और दुर्भाग्य का कारण बनता है। इसलिए किसी से उधार लेने पर उसे पैसे जरूर लौटा दें।

6. रुमाल

किसी भी अन्य व्यक्ति के रुमाल का उपयोग करना उन दो लोगों के बीच लड़ाई और तनाव का कारण बनता है। साथ ही दूसरे का रुमाल लेने वाले को लगातार पैसों के नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

Related Posts

Menu