कर्म सिद्धांत

samne wala bhale hi kamjor ho par karm balwan hote hai

कर्म सिद्धांत : सामने वाला भले ही कमजोर हो पर कर्म बलवान होते हैं – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

कभी किसी को कमजोर समझकर पीड़ा, कष्ट नहीं देनी चाहिए। चाहे वह कमजोर हो पर कर्म बलवान होते हैं वह…
apni kul nagari wapas paane ke liye rawan ne ki digvijay

कर्म सिद्धांत : अपनी कुल नगरी वापस पाने के लिये रावण ने की दिग्विजय – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

पद्मपुराण में एक प्रसंग है जिसमें रावण ने राजा इंद्र को जीता और अपनी कुल परंपरा से चली आ रही…
Menu