आलेख

जिन्होंने दु:ख में भी सुखी रहने की कला सिखाई- अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

label_importantआलेख
जन्म कल्याणक पर विशेष: भगवान महावीर ने लोक कल्याण का मार्ग अपनाकर विश्व को शांति का संदेश दिया भगवान महावीर…

तीर्थंकर महावीर… एक नजर में

label_importantआलेख
प्रस्तुति -अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज अन्य नाम- वर्द्धमान, वीर, अतिवीर, महावीर, सन्मति तीर्थकर क्रम -चतुर्विंशतम जन्मस्थान -क्षत्रिय कुण्डग्राम, वैशाली…

महावीर जन्मकल्याणक : भगवान महावीर कहते हैं कि हमारे कर्मों का ही फल है सुख-दुख-अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

label_importantआलेख
भगवान महावीर ने प्राणीमात्र को संयमित जीवन जीने और राग-द्वेषात्मक प्रवृत्ति से दूर रहने का उपदेश दिया है। महावीर जानते…

महावीर तीर्थंकर का जन्म और अतिशयकारी लक्षण – अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

label_importantआलेख
अंतर्मन से शुद्ध होने के लिए ध्यान और तप जरूरी भगवान महावीर के जन्मकल्याणक पर विशेष जैन धर्म के इस…

जैन ग्रन्थ

label_importantआलेख
अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज ग्रंथ शब्द के कई अर्थ हैं, पर यहां ग्रंथ का अर्थ है गणधर के द्वारा…

जीवन से मृत्यु तक संस्कार निहित रहेंगे ‘श्रीफल’ में

label_importantआलेख
पूज्य जगद्गुरु कर्मयोगी स्वस्तिश्री चारूकीर्ति भट्टारक स्वामीजी, श्रवणबेलगोल के उद्गगार मेरे सहयोगी का पूछना है कि पत्रिका का नाम आखिर…
Menu