कहानी

कहानी : उत्तम तप आत्मा की मुक्ति के लिए किया जाता है – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

बात धार्मिक नगरी उज्जयिनी की है। वहां एक राजा थे। उनके दो बेटे थे- भर्तृहरि और शुभचंद्र। एक दिन दोनों…
Menu