अंतर्भाव

apna samay punya karne or paap ka naash karne me lagaaiye

अंतर्भाव : अपना समय पुण्य करने और पाप का नाश करने में लगाइए – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

पद्मपुराण के पर्व 74 में एक प्रसंग आता है। यह प्रसंग बहुरूपिणी विद्या सिद्ध होने के बाद जब रावण युद्ध…
sharir ki sundertaa prasaadhno se nahi shubh karmo se hogi

अंतर्भाव : शरीर की सुंदरता प्रसाधनों से नहीं शुभ कर्मों से होगी – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

न जाने कितनी बार इस मल से भरे शरीर को सौंदर्य प्रसाधनों के माध्यम से सुंदर बनाने की कोशिश की…
jisne daan daya nahi ki use sukh nahi mil skta

अंतर्भाव : जिसने दान, दया नहीं की उसे सुख नहीं मिल सकता – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

पद्मपुराण के पर्व 59 में एक आध्यात्मिक उपदेश आया है, जो आत्मचिंतन के लिये उपयोगी है। यह हमें सत्कर्म करने…
poorv me argit karmo se milte hai sukh-dukh

अंतर्भाव : पूर्व में अर्जित कर्मों से मिलते हैं सुख-दुख – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

पद्मपुराण के पर्व 14 में प्रसंग है कि रावण के निवेदन पर रावण के साथ अनेक भव्य प्राणियों को सुवर्णगिरी…
ashubh karm ke nash se manushya paryaay milti hai

अंतर्भाव : अशुभ कर्म के नाश से मनुष्य पर्याय मिलती है – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

पद्मपुराण के पर्व 17 में आर्यिका संयमश्री माता जी अंजना को उस समय अध्यात्म ज्ञान देती हैं जब अंजना जिन…
jo kalyankari vachan kahe vahi manav

अन्तर्भाव : जो कल्याणकारी वचन कहे या सुने वही मानव बाकी पुतले  – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

पद्मपुराण के पर्व 5 में शरीर और उसके अंगों को लेकर चिंतन है। इसका हमे भी चिंतन करना चाहिए ।…

अंतर्भाव : धर्म रहित कार्य से व्यक्ति नरक को प्राप्त करता है – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

जीवन में दुःख के कारणों का निरंतर चिंतन करते रहना चाहिए। इससे दुःख के कारण धीरे-धीरे छूटते जाते हैं। पद्मपुराण…
Menu