स्वाध्याय – 16 : समवसरण के बारह कोठे

folder_openस्वाध्याय

समवसरण में आठवीं भूमि श्रीमण्डपभूमि में बारह कोठे होते हैं। यहां पर संसारी जीव बैठकर तीर्थंकर भगवान की दिव्य ध्वनि सुनते हैं। आओ जानते हैं किस कोठे में कौन बैठता है-

1. गणधर सहित मुनिराज
2. कल्पवासी देवों की देवियां
3. गणिनी आर्यिका सहित सभी आर्यिका माता जी
4. ज्योतिषी देवों की देवियां
5. व्यन्तर देवों की देवियां
6. भवनवासी देवों की देवियां
7. ज्योतिषि देव
8. व्यन्तर देव
9. भवनवासी देव
10. कल्पवासी देव
11. मनुष्य
12. तिर्यंच

(पद्मपुराण पर्व 2 )

Related Posts

Menu