स्वाध्याय-17 : स्वाध्याय के पांच भेद

label_importantस्वाध्याय
swadhyaay ke paanch bhed

• आलस्य का त्यागकर ज्ञान की आराधना करना निश्चय स्वाध्याय है।
• व्यवहार में स्वाध्याय के पांच भेद हैं ।

1.वाचना – निर्दोष ग्रन्थ (अक्षर) और अर्थ दोनों को प्रदान करना वाचना स्वाध्याय है।

2.पृच्छना – संशय को दूर करने के लिए अथवा जाने हुए पदार्थ को दृढ़ करने के लिए पूछना पृच्छना है।

3.अनुप्रेक्षा – जाने हुए पदार्थ का बारम्बार चिंतन करना अनुप्रेक्षा है।

4.आम्नाय – शुद्ध उच्चारण पूर्वक पाठ को पुन:-पुनः दोहराना आम्नाय स्वाध्याय है और पाठ को याद करना भी आम्नाय है। भक्तामर, णमोकार मंत्र आदि के पाठ इसी में गर्भित हैं।

5.धर्मोपदेश – आत्मकल्याण के लिए, मिथ्यामार्ग व संदेह दूर करने के लिए, पदार्थ का स्वरूप जानने के लिए और श्रोताओं को रत्नत्रय की प्राप्ति के लिए धर्म का उपदेश देना धर्मोपदेश है।

(तत्त्वार्थ सूत्र अध्याय 9)

Related Posts

Menu