छहढाला चौथी ढाल छंद-9

label_importantछहढाला - चौथी ढाल

छहढाला

चौथी ढाल

पुण्य-पाप में हर्ष-विषाद का निषेध

पुण्य-पाप फलमाहिं, हरख बिलखौ मत भाई।
यह पुद्गल परजाय, उपजि विनसैं फिर थाई।।
लाख बात की बात यहै, निश्चय उर लाओ।
तोरि सकलजग-दंद-कुंद, निज आतम ध्याओ।।9।।

अर्थ – आत्महितैषी जीव का यह कत्र्तव्य है कि वह धन-पुत्रादि की प्राप्ति में हर्ष और रोग-वियोग आदि होने पर विषाद न करें, क्योंकि ये पुण्य-पाप तो पुद्गलरूप कर्म की पर्याएँ हैं, जो एक के बाद एक उत्पन्न और नष्ट होती रहती हैं। सारे उपदेशों का सार यही है कि समस्त सांसारिक उलझनों/चिन्ताओं से नाता तोड़कर आत्मचिन्तन में प्रवृत्त होना चाहिए। विशेषार्थ-जो अशुभ गतियों एवं अशुभ प्रवृत्तियों से जीव की रक्षा करे, उसे पुण्य कहते हैं और जो शुभ गतियों एवं शुभ प्रवृत्तियों से जीव की रक्षा करे, उसे पाप कहते हैं।

Related Posts

Menu