छहढाला पांचवी ढाल छंद-3

label_importantछहढाला - पांचवी ढाल

छहढाला

पांचवी ढाल

अनित्य भावना

जोवन गृह गोधन नारी, हय गय जन आज्ञाकारी । इन्द्रिय-भोग छिन थाई, सुर-धनु चपला चपलाई ॥3॥

अर्थ – जवानी, घर, गाय, भैंस, रुपया, पैसा, स्त्री, घोड़ा, हाथी, कुटुम्बीजन, नौकर-चाकर एवं पाँचों इन्द्रियों के भोग, इन्द्रधनुष और बिजली की चंचलता के समान क्षणभर रहने वाले हैं ।

Related Posts

Menu