छहढाला पांचवी ढाल छंद-5

label_importantछहढाला - पांचवी ढाल

छहढाला

पांचवी ढाल

संसार भावना

चहुँगति दुख जीव भरै हैं, परिवर्तन पंच करै हैं। सब विधि संसार असारा, यामें सुख नाहिं लगारा ॥5॥

अर्थ – जीव चारों गतियों के दु:खों को भोगते हुए पाँच परिवर्तनों को करता रहता है। यह संसार हर तरह से असार है, इसमें थोड़ा भी सुख नहीं है।

Related Posts

Menu