छहढाला पहली ढाल छंद 09

label_importantछहढाला - पहली ढाल

छहढाला

पहली ढाल

तिर्यंचगति में दु:खों की अधिकता और नरकगति की प्राप्ति का कारण

वध-बन्धन आदि दु:ख घने, कोटि जीभतैं जात न भने।
अति संक्लेश-भावतैं मर्यो, घोर श्वभ्र-सागर में पर्यो।।9।।

अर्थ – तिर्यंचगति में इस जीव को मारे जाने, बाँधे जाने आदि के अनेक दु:ख सहन करने पड़े जिनका वर्णन करोड़ों जिह्वा से भी नहीं किया जा सकता है। इस दु:खमय दशा में वह जीव बहुत ही संक्लेश परिणामों से मृत्यु को प्राप्त हुआ, उसके फलस्वरूप भयानक नरकगतिरूप समुद्र में जा गिरा।

विशेषार्थ – श्वभ्र नाम नरक का है, वहाँ जन्म लेते ही अनिर्वचनीय दु:ख भोगने पड़ते हैं तथा वहाँ अकाल मरण नहीं होता।

Related Posts

Menu