छहढाला दूसरी ढाल सारांश

label_importantछहढाला - दूसरी ढाल

छहढाला

दूसरी ढाल सारांश

इस ढाल में चतुर्गति-भ्रमण व दु:खों का निदान, सात तत्त्वों का विपरीत श्रद्धान, कुगुरु-कुदेव-कुधर्म का स्वरूप, गृहीत-अगृहीत के भेद से मिथ्यादर्शन, मिथ्याज्ञान, मिथ्याचारित्र का वर्णन विशद रूप में किया गया है। अन्त में, संसार के दन्द-फन्द को छोड़कर आत्म-स्वरूप में लीन होने की शिक्षा दी गई है।

Related Posts

Menu