गुण

label_importantकविता

देखकर दूसरों के,
अच्छे-बुरे कर्म से,
अपनाने, छोडऩे का
पर होता नहीं ऐसा,
ऐसा क्या करूं,
आएं चले जाएं

Related Posts

Menu