जीवन सफल हुआ मेरा

label_importantकृतज्ञता

मैं वह भाग्यशाली हूं, जिसे अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज की 48 दिवसीय मौन साधना के दौरान उनकी साधना में सम्मिलित होने का सुअवसर मिला।

Related Posts

Menu