मीडिया की नई प्रौद्योगिकी से जुड़ना होगा – अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

जैन समाज समृद्ध है। इसमें बुद्धिजीवी, त्यागी, ज्ञानी और अनेक चिंतक हैं, साथ ही अनेक संस्थाएं भी हैं। फिर भी हमारी उदासीनता के कारण जैन समाज का कोई एक ऐसा समाचारपत्र, वेबसाइट, एप्प नहीं है जिसमें संपूर्ण जैन समाज के समाचार प्रमाणिकता के साथ मिल सकें। यह बात अलग है कि सभी संस्थाएं अपनी-अपनी पत्रिका, समाचारपत्र निकाल रहे हैं। यह भी धर्म प्रभावना का कार्य है। पर, आज इस समाज को ऐसे समाचारपत्र और वेबसाइट, एप्प की आवश्यकता है जिसमें हर प्रकार के समाचार, लेख, तीर्थंकरों का परिचय,संत-परिचय,शास्त्र- परिचय, विद्वान- परिचय,तीर्थ-परिचय,मंदिरों
के परिचय तो हो ही, साथ में जैनधर्म के मूल सिद्धांतों की जानकारी एक क्लिक पर मिल सके।

अगर हम यह कार्य कर पाएं तो जैन धर्म के मीडिया में एक नई कांति आ जाएगी। आज हम मीडिया के बढ़े महत्व को नजरअंदाज नहीं कर सकते। हमें एक-दूसरे के विचार, धर्म प्रभावना के कार्य, सकारात्मक अच्छे कार्यों की प्रेरणा मिल सकेगी। समाज के विचारशील व्यक्ति, व्यापारी, पत्रकार, प्रतिभाशाली लोग, डॉक्टर, वकील आदि तो जुड़ेंगे ही, साथ ही रोजगार के साधन तथा संगठन को आपस में जुड़ने का मंच भी मिल जाएगा। समाज को इस ओर पहल करनी चाहिए। पहल करने से रास्ते खुलते हैं और नया मार्गदर्शन मिलता है। आपकी पहुंच समूची दुनिया तक होगी। हम यह भी तो कर सकते हैं कि पहले से चल रही वेबसाइट, समाचारपत्र, एप्प  को नए रूप में शुरू कर सकें तो आप इस और अपना एक कदम आगे बढ़ाएं…

अनंत सागर
अंतर्मुखी के दिल की बात
24 मई 2021, सोमवार
भीलूड़ा (राज.)

Related Posts

Menu