साधना की भावना जागी

folder_openकृतज्ञता

मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज की वजह से हमारे भीतर साधना की भावना जागी है और हर रोज ही भक्तामर पाठ करने की अभिलाषा मन में रहने लगी है। इतनी छोटी सी अवस्था में मुनि श्री के त्याग, तप और साधना को देख लगता है कि दिगंबर साधुओं में कितना तेज होता है। उन्हें आहार देने का सुअवसर मुझे मिला है, हमारे परिवार पर उनकी विशेष कृपा दृष्टि रही है। उनका आशीर्वाद हमें सदैव मिलता रहे, ईश्वर से यही कामना है।

शांतिलाल गोधा

संरक्षक, मुनि सुव्रतनाथ दिगंबर जैन पंचायत, मदनगंज-किशनगढ़

Related Posts

Menu