संस्कार

label_importantकविता

“संस्कार के बिना
नहीं दिखती
परमात्मा बनने की राह
पहचान नहीं पाया इन्हें,
इसलिए भटक रहा हूं
संस्कार की खोज में।”

Related Posts

Menu