पाठशाला

पाठशाला – जिन मंदिर के दर्शन से मिलता है उपवास का फल – अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्यसागर जी महाराज

कर्मों से रहित अरिहंत भगवान के साक्षात दर्शन तो नहीं होते है पर उनकी पंचकल्याणक सहित प्रतिमा के दर्शन और…

पाठशाला:- ‘सम्यकदर्शी होने के लिए जिनबिम्ब दर्शन जरूरी’- अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

  जिस स्थान पर जिनेन्द्र भगवान की प्रतिमा की स्थापना की जाती है उसे मंदिर या जिनालय कहते हैं। जिनालय…

पाठशाला :- ‘पहला धर्म है स्वयं को मर्यादित बनाना’- अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

आज पाठशाला में बात करेंगे कि मनुष्य की पहचान उसके व्यक्तित्व और कृतित्व से होती है। यही हमारे प्राचीन शास्त्रों…

अनंत सागर पाठशाला:_ ‘जीवनचर्या सही कर लें तो कोरोना से भी बचेंगे और वैक्सीन से भी’_ अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

आज पाठशाला में बात करेंगे वर्तमान परिस्थितियों की। जब तक कोरोना की वैक्सीन नही थी तब तक वैक्सीन आने का…

पाठशाला :- ‘छोटी गलतियां बड़े कष्ट का कारण बनती हैं’-अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज

बच्चों पाठशाला में आज एक सच्ची घटना बता रहा हूं। यह कहानी तुम्हें धार्मिक अनुष्ठानों से जुड़ने की प्रेरणा देगी।…
Menu