प्रेरणा

प्रेरणा:- एक धर्मस्थली ऐसी भी :

800 साल प्राचीन इस धर्मस्थल मंदिर में भगवान मंजुनाथेश्वर अर्थात् “शिव” मुख्य देवता हैं । इस मंदिर में विष्णु धर्म को मानने वाले वैष्णव पंडित द्वारा पूजा की जाती है। इसके अलावा इस मंदिर का प्रशासन जैन धर्म के अनुयायियों द्वारा किया जाता है और इन्हें यहां हेगडे नाम से जाना जाता है। यह सिर्फ महत्त्वपूर्ण तीर्थ स्थल ही नहीं बल्कि क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन का केंद्र भी है, जिसका अनुकरण करना चाहिए। वर्तमान में हमारे समक्ष ऐसे लाखों मंदिरों के उदाहरण हैं  और मंदिरों के पास धन और संसाधनों की बहुतायत के बावजूद,  उनके आसपास के समाज के पास उनके अस्तित्व में रहने के लिए उन्हें धन्यवाद देने का कोई कारण नहीं है।   कर्नाटक स्थित यह शिव मंदिर एक उत्कृष्ट  उदाहरण है जिसे अगर अनुमति मिले तो एक मंदिर के रूप में वह क्या कुछ कर सकता है । इस मंदिर के निर्माण के पीछे हेेगडे परिवार के पूर्वजों को मिला देवादेश प्रसंग इसे और अधिक विशेष बनाता है । यह धर्मस्थली है, “मंजुनाथ स्वामी मंदिर ” जिसे जैन परिवार के वर्तमान में पदस्थ धर्माधिकारी श्री वीरेन्द्र जी हेगड़े के द्वारा चलाया जाता है,  इन्होंने इस गाँव को न केवल समृद्ध शहर के रूप में तैयार किया बल्कि इसे क्षेत्र में सामाजिक, आर्थिक, शैक्षिक, प्रशासनिक और न्यायिक सुधार के स्रोत भी बनाए। यहाँ पर जिस साफ़-सुथरी रसोई में रोज लाखों लोगों के लिए अन्नदान का आयोजन होता है, उसकी दुनियाभर में तारीफ की गयी हैI लोगों के मुद्दों को सुनने के अलावा मंदिर में धर्माधिकारी मूलभूत आवश्यकताओं से वंचित लोगों को छात्रवित्ति, चिकित्सा या पेंशन के रूप में वित्तीय सहायता करते हैं जो कई दिन लाखों तक पहुँच जाती हैI सांस्कृतिक मोर्चे पर, श्री धर्मस्थल मंजुनाथेश्वर यक्षगाना कला केंद्र है जो पारंपरिक स्थानीय नृत्य , गांवों और गुरुकुलों के भजन समूहों को प्रशिक्षण देता है और युवाओं को पारंपरिक गुरु-शिष्य  परम्परा में शिक्षा प्रदान करते हैं। समाज में, मंदिर बड़े पैमाने पर विवाह का आयोजन करता है, जहाँ धर्माधिकारी दावत के अलावा  दुल्हन के लिए शादी का दहेज़ और दुल्हन के लिए मंगलसुत्र के खर्च का ख्याल रखने से लेकर  हर जोड़े को आशीर्वाद देता है। दूसरी तरफ, जन-जगराथी – एक व्यसन छोड़ने का कार्यक्रम है, ने देश के इस हिस्से में कई ग्रामीण परिवारों को बर्बाद होने से बचाया है । धर्मस्थल को ज्यादातर सबसे साफ़ मंदिर के शहर के रूप में माना जाता है, यहाँ  तक की धर्मस्थल मंजुनाथेश्वर धर्मोथाना (एसडीएमडी) ट्रस्ट ने 200 से ज्यादा मंदिरों को बहाल करने में मदद की है। दूसरी तरफ, एसडीएम के मेडिकल ट्रस्ट के तहत पूरे भारत में बहु-विशिष्ट अस्पताल हैं, जो जरूरतमंदों को मुफ्त चिकित्सा सहायता प्रदान करते हैं। कर्नाटक के उज्जिर में धर्मस्थला के महाडवाड़ा में प्रवेश करने के दौरान द्वार से मंदिर तक कुछ किलोमीटर की दूरी तक कई शिक्षण संस्थानों, प्राकृतिक चिकित्सा और कल्याण केंद्रों के आस-पास बनाये गए बगीचों के साथ प्राचीन मंदिरों की तरह दिखने वाले मंदिर हैं। वे इसकी एक छोटी सी झलक है कि मंदिर के इस विशाल संस्थान ने समाज के लिए क्या किया है। 2015 में डाॅ. वीरेन्द्र को भारत सरकार ने पद्म विभूषण से सम्मानित किया एवं इससे पूर्व उन्हें सन्  2000 में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से भी सम्मानित किया था। यह सब संभव हो पाया है, क्योंकि इन प्रयासों को चलाने वाले व्यक्ति धर्माधिकारी श्री वीरेन्द्र जी हेेगडे के पास धर्म को निखारने के लिए विशेष जुनून और विशिष्ट दृष्टि है, जिसे वह हम सबको अपने अनूठे अंदाज़ में प्रेरित करते हैं। -अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज
Menu